Category archives for: Humour

ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे: ट्रम्प और मोदी

दोस्तों की ज़ूम मीटिंग (२) …संतराम बजाज “हेलो डोनाल्ड!” मोदी ने कनेक्शन मिलाया| “हाई मोडी! कैसा है तुम?” ट्रम्प बड़ा चहक कर बोला| “मैं तो ठीक हूँ, तुम बताओ वह जो chloroquine भेजी थी, मिल गई क्या?” “मिल गई ? मैं तो उसे रोज़ खाता हूँ|” “कोई असर हुआ?” “पता नहीं, कोई दूसरा तो उसे […]

Coronavirus tips you won’t get from the government

By Melvin Durai Just a week ago, most of us did not know how to spell “coronavirus.” But we’ve now seen the word hundreds of times, mostly in headlines such as “Coronavirus Infects Thousands in Europe,” “Coronavirus Prompts Governors to Close Schools,” and “Coronavirus Expert Reassures Americans: It’s Safe to Keep Drinking Corona Beer.” It’s […]

हम दोस्तों की ज़ूम मुलाक़ात

कोरोनावायरस लॉकडाउन..(वीक 6) संतराम बजाज “यार, तुम अभी कच्छे-बनयान में ही घूम रहे हो?” मीटिंग के शुरू होते ही मैं ने दर्शन सिंह को देखते ही कहा| “जब कहीं जाना ही नहीं तो सूट पहनने की क्या ज़रुरत है|” “वह तो ठीक है, लेकिन ढंग के कपड़े तो पहनने चाहियें| यह देखो मुत्तुस्वामी को, क्या […]

In-house self-isolation 

Effects of the Coronavirus… By Santram Bajaj I hate dogs! Not all, but the ones owned by my neighbours. I have three in my immediate neighbourhood. They bark and bark. They never shut up. I was on the verge of killing at least one and set an example for the other two to behave. Animal-lovers […]

क़यामत से कयामत तक…

संतराम बजाज इंद्रलोक में चारों ओर कोहराम मच गया। देवताओं में खलबली ओर घबराहट का माहौल छा गया, जब नारद जी “नारायण ! नारायण !!” कहते पधारे और सूचना दी कि ब्रह्मा जी ने आपातकालीन (Emergency) मीटिंग बुलाई है।  क्या हो सकता है, किसी को कुछ पता नहीं। भगवान् विष्णु और भगवान् शंकर तो पहले […]

कोरोनावायरस का आतंक …..

संतराम बजाज   करीब दो महीने हो चले हैं, इस कोरोनावायरस को| चारों ओर इस का आतंक फैला हुआ है| इस के बारे में शायद ही कोई ऐसी बात होगी जो आप को मालूम न हो| चीन देश से चल कर दुनिया के कोने कोने में पहुँच चुका है| इस छूत की बीमारी (COVID-19) ने […]

Three Ha…Ha…Ha…s for the Siddhus

  By Neena Badhwar To my limited knowledge, ‘The Siddhus of Upper Juhu’ has been, probably, the best Indian comedy play staged in Sydney. This is attributed to crispness and timing of its dialogues. The language plays a great role in it. Every language has its gifts: gravitas of Urdu/Persian, precision of Hindi/Sanskrit and expression […]

बोर हो रहे हैं  हम! 

संतराम बजाज पिछले कुछ दिनों से अजीब सी बोरियत छाई हुई है| भारत के टीवी वालों को जैसे सांप सूंघ गया है| सब चटपटी खबरें गायब सी हो गई हैं|कुछ तो तरस करो यारो, हम खाली बैठ कर क्या करेंगें, हम समय कैसे काटें? शायद उन का भी कसूर नहीं है | वे बेचारे क्या […]

“चल उड़ जा रे पंछी…”

संतराम बजाज  “बड़ी सासू! आप कौन सी चक्की का आटा खाती हैं?” मीग़न ने रानी इलिज़ाबैथ से पूछा|  “मैं आटा खाती ही नहीं | क्यों पूछा?” “वैसे ही; मैं रानी कब बनूंगी?” “इस जन्म में तो कोई चांस नहीं है|अभी तो चार्ल्स मेरे मरने का इंतजार कर रहा है,फिर विल्यम होगा, उस के ३ बच्चे […]

नया साल, नये संकल्प !

… संत राम बजाज महाभारत में एक संजय हुए हैं, जिन के पास एक  टीवी थी जिस पर आये हुए प्रोग्राम को केवल वह ही देख और सुन सकते थे| कहते हैं कि उन के पास दिव्य-दृष्टि थी| कुछ ऐसी ही शक्ति मेरे पास भी आ गई थी जो नये वर्ष के कुछ दिन रही […]

Search Archive

Search by Date
Search by Category
Search with Google